अकबर से लेकर अटल बिहारी वाजपेयी तक सब चढ़ा चुके हैं अजमेर की शरीफ़ दरगाह पर चादर

0

अजमेर को मुख्य रूप से दरगाह शरीफ़ के लिए जाना जाता है, जो महान सूफ़ी संत ख़्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की कब्र है। तारागढ़ पहाड़ी की तलहटी में स्थित दरगाह शरीफ़ में सभी धर्मों और संप्रदायों के लोग बड़ी संख्या में आते हैं। शहर के उत्तर में एक सुंदर कृत्रिम झील है जिसे अना सागर झील कहा जाता है।

पैवेलियन या बारदारी इस झील को अधिक सुंदर बनाते हैं जिसका निर्माण बादशाह शाहजहाँ ने करवाया था। स्थानीय लोगों और पर्यटकों के लिए अना सागर झील पिकनिक के लिए उपयुक्त स्थान है। अजमेर संग्रहालय जो अकबर की अजमेर यात्रा के दौरान उसका निवास हुआ करता था, आज वहाँ 6 वीं और 7 वीं शताब्दी की कई हिंदू मूर्तियाँ हैं। यहाँ पर्यटकों के लिए मुगल और राजपूत राजवंशों की कई मूर्तियों और हथियारों का प्रदर्शन किया गया है। आधे दिन का झोपड़ा एक मस्जिद है जो कहा जाता है कि केवल ढाई दिन के समय में बनाई गई।

यह मस्जिद भारतीय – मुस्लिम वास्तुशैली का एक अच्छा उदाहरण है। अजमेर के अन्य महत्वपूर्ण आकर्षण नासिया (लाल) मंदिर, निम्बार्क पीठ और नारेली जैन मंदिर हैं। मेयो कॉलेज जिसकी स्थापना पहले के अमीर भारतीय लोगों के लिए विशेष रूप से राजपूत लोगों के लिए की गई थी,आज देश के श्रेष्ठ स्कूलों में से एक है।

अजमेर पवित्र शहर पुष्कर के लिए प्रवेश द्वार के रूप में कार्य करता है, जो यहाँ से केवल 11 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पुष्कर ब्रम्हा मंदिर और पुष्कर झील के लिए प्रसिद्द है और यहाँ बड़ी संख्या में पर्यटक आते है।

टिप्पणियाँ लिखे

आपका ईमेल प्रकाशित नहीं किया जाएगा।