उदयपुर – सिटी ऑफ लेक्स

0

राजस्थान के सबसे खूबसूरत शहरों में से एक उदयपुर को सिटी ऑफ लेक्स और वेनिस ऑफ द ईस्ट के नाम से भी जाना जाता है. 1559 में महाराजा उदय सिंह ने उदयपुर की स्थापना की थी जो लंबे समय तक मेवार के राजपूत शासकों की राजधानी भी रहा. किसी खूबसूरत तस्वीर जैसे दिखने वाले इस शहर को सिटी ऑफ लेक्स इसीलिए कहा जाता है क्योंकि यहां ढेरों झीलें हैं. इसके अलावा यहां कई महल, हवेलियां, किले, मंदिर और बाग-बगीचे भी हैं. साथ ही यहां आने वाले टूरिस्ट्स साइटसीइंग के अलावा कई दूसरी ऐक्टिविटीज में भी शामिल हो सकते हैं.

उदयपुर में राज महल सिटी पैलेस, लेक पैलेस, गुलाब बाग, फतेह सागर झील, नेहरू द्वीप उद्यान, महाराणा प्रताप स्मारक (मोती मगरी), सहेलियों की बाड़ी, जगदीश मंदिर, दूध तलाई पार्क, शिल्प ग्राम, सज्जनगढ़ पैलेस, हल्दी घाटी, नाथ द्वारा, जयसमंद, एकलिंगजी, सास-बहु का मंदिर आदि देखने लायक आकर्षक स्थल हैं.

राज पैलेस (सिटी पैलेस) – सफेद संगमरमर से बने इस महल को उदयपुर की शान कहा जाता है. ये सिर्फ उदयपुर ही नहीं, बल्कि पूरे राजस्थान के सबसे बड़े महलों में से एक है.

सहेलियों की बाड़ी – सहेलियों की बाड़ी को महाराजा उदयसिंह ने शाही परिवार की महिलाओं के लिए बनवाया था. यहां पेड़ पौधे, फव्वारे सभी को लुभाते हैं.

एकलिंगजी मंदिर-ये मंदिर उदयपुर से करीब 20 कि.मी दूर कैलाशपुरी गांव में स्थित है. माना जाता है कि एकलिंगजी ही मेवाड़ के शासक हैं. राजा तो उनके प्रतिनिधि के रूप में यहां शासन करता थे.

नाथद्वारा – उदयपुर से 50 किलोमीटर दूर है. यहां श्रीनाथजी का भव्य मंदिर है. श्रीनाथजी भगवान श्रीकृष्ण का ही एक स्वरूप है. इस मंदिर में भगवान विष्णु की मूर्ति है. यह मूर्ति काले पत्थर की बनी हुई है.

विंटेज कार संग्रहालय – सिटी पैलेस से करीब 2 कि.मी दूर स्थित है विंटेज और पुरानी कारों का संग्रहालय. यहां करीब दो दर्जन कारें पर्यटकों के देखने के लिए रखी हुई हैं. इन कारों में 1934 की रॉल्स रॉयल फैंटम कार भी है.

गर्म गुब्बारे की सवारी – क्या आप हवा में उड़ते हुए पिछोला झील, सिटी पैलेस आदि देखना चाहते हैं, तो गर्म हवा के गुब्बारे की सवारी करना कतई ना भूले. सबसे खास बात आप इस गुब्बारे की सवारी से हवा में उड़ते हुए पूरे उदयपुर को अच्छे से निहार सकते हैं.

कठपुतली का नाच – यदि आप कला और संस्कृति के शौकीन हैं, तो आपको उदयपुर में होने वाला कठपुतली नृत्य अवश्य देखना चाहिए. पर्यटक कठपुतली शो भारतीय लोक कला संग्रहालय और गोविंद कठपुतली रंगमंच में देख सकते हैं. कठपुतली शो राजस्थानी संस्कृति का एक अभिन्न हिस्सा हैं और राजस्थान के विभिन्न स्थानों पर आयोजित किए जाते हैं.

उदयपुर जाने का सबसे अच्छा समय सितंबर और मार्च के महीनों के बीच है।

उदयपुर कैसे पहुंचे: उदयपुर, राजस्थान का एक प्रमुख शहर होने के कारण अच्छी तरह से बसों द्वारा अन्य जगहों से जुड़ा है. उदयपुर और राजस्थान के अन्य प्रमुख स्थलों के बीच राजस्थान रोडवेज की बसें अक्सर उपलब्ध रहती हैं. यात्री अपने बजट के अनुसार एसी और वोल्वो बसों को चुन सकते हैं. दिल्ली, अहमदाबाद और जयपुर से ये बसें आसानी से उपलब्ध हैं. ट्रेन से उदयपुर पहुंचने के लिए भारत के प्रमुख शहरों से उदयपुर के लिए ट्रेन उपलब्ध है हवाई मार्ग से उदयपुर का महाराणा प्रताप हवाई अड्डा जो कि शहर से 22 किलोमीटर दूर है.

टिप्पणियाँ लिखे

आपका ईमेल प्रकाशित नहीं किया जाएगा।