मध्‍यप्रदेश का दिल – इंदौर

देश के सबसे स्वच्छ शहरों में शुमार और मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी के रूप में विख्यात इंदौर शहर की हर अदा निराली है। इंदौर शहर सिर्फ घूमने के लिए ही नहीं बल्कि कारोबार करने और खाने-पीने का शौक रखने वालों के लिए भी बेहतरीन जगह है। जनसंख्या की दृष्टि से मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा महानगर होने के बावजूद साफ-सफाई के प्रति यहाँ जैसी जागरूकता है वैसी देश के अन्य महानगरों में देखने को नहीं मिलती है। यही कारण रहा है कि इंदौर लगातार चौथी बार देश का सबसे स्वच्छ शहर बना है।

इंदौर का इतिहास

मालवा पठार के दक्षिणी छोर पर स्थित इंदौर शहर, मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 190 किमी पश्चिम में स्थित है। इंदौर को उज्जैन से ओंकारेश्वर की ओर जाने वाले नर्मदा नदी घाटी मार्ग पर एक व्यापार बाजार के रूप में स्थापित किया गया था, वहीं इंद्रेश्वर मंदिर का निर्माण किया गया, जहाँ से ही पहले इंदूर और बाद में इस शहर को इंदौर नाम प्राप्त हुआ।
मराठा काल में बाजीराव पेशवा ने इस क्षेत्र पर अधिकार प्राप्त कर, अपने सेनानायक मल्हारराव होलकर को यहां का जमींदार बना दिया, जिन्होंने होलकर राजवंश की नींव डाली। होलकर वंश का शासनकाल भारत के स्वतंत्र होने तक रहा। यह मध्य प्रदेश में शामिल होने से पहले ब्रिटिश सेंट्रल इंडिया एजेंसी और मध्य भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी भी था। खान (कान्ह) नदी के तट पर बनी कृष्णापुरा छत्रियाँ, होलकर शासकों को समर्पित हैं।

औद्योगिक रूप से इंदौर

ब्रिटिश काल से ही इंदौर एक औद्योगिक शहर के रूप में विख्यात रहा है। यहाँ हजारों की संख्या में छोटे-बडे उद्योग हैं। उद्योगों में बड़ी संख्या में स्थानीय और कई एमएनसी भी हैं। पीथमपुर औद्योगिक क्षेत्र के प्रमुख उद्योग व्यावसायिक वाहन बनाने वाले व उनसे सम्बन्धित उद्योग हैं, इसे “भारत का डेट्राइट” भी कहा जाता है। भारत का तीसरा सबसे पुराना शेयर बाजार, मध्य प्रदेश स्टॉक एक्सचेंज इंदौर में ही स्थित है। औद्योगिक शहर के साथ-साथ इंदौर शिक्षा का भी केन्द्र है। यह भारत का एकमात्र शहर है, जहाँ भारतीय प्रबन्धन संस्थान (आईआईएम इंदौर) व भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी इंदौर) दोनों स्थापित हैं। स्मार्ट सिटी मिशन में जिन 100 भारतीय शहरों को चयनित किया गया है जिनमें इंदौर भी है।

देश का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर सामान और सेवाओं के लिए एक प्रमुख वाणिज्यिक केंद्र है। इंदौर शहर ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में कई देशों से निवेशकों को आकर्षित करता है। इंदौर अनाज मंडी, इंदौर संभाग की मुख्य व केन्द्रीय मंडी है, यह सोयाबीन के लिये देश का प्रमुख विपणन केन्द्र भी है। इसके अलावा यहाँ पर गेहू, चना, डॉलर चना, सभी प्रकार की दाले, कपास व अन्य सभी फसलों का कारोबार किया जाता है। इंदौर अनाज मंडी से आसपास के जिलों जैसे धार, खरगोन, उज्जैन, देवास आदि के किसान भी जुड़े हुए हैं।

इंदौर का खानपान

खूबसूरत शहर इंदौर अपने विशिस्ट खान-पान के लिये प्रसिद्ध है। यहाँ के नमकीन, पोहा और जलेबी, चाट (नमकीन), कचौड़ी, गराड़ू, भुट्टे का कीस, सेंव-परमल और साबूदाना खिचड़ी स्वाद में अपनी अलग पहचान बनाये हुए हैं। मिठाई में मूंग का हलवा, गाजर का हलवा, रबड़ी, मालपुए, फालूदा कुल्फी, गुलाब जामुन, रस-मलाई, रस गुल्ला चाव से खाये जाते हैं। इसके अलावा मराठा, मुगलई, बंगाली, राजस्थानी और एक किस्म का स्थानीय व्यंजन दाल-बाफला काफी प्रसिद्ध है। सराफा बाजार और छप्पन दुकान, इंदौर के एक प्रमुख खाद्य स्थल हैं। आम तौर पर नमकीन इंदौर में प्रमुखता से परोसा जाता है। सेंव-परमल यहाँ का प्रसिद्ध नाश्ता है।

इंदौर कैसे पहुंचें

इंदौर शहर एयर, रेल और सड़क मार्ग के द्वारा भली – भांति जुड़ा हुआ है। राज्‍य सरकार द्वारा भी इंदौर के लिए कई डीलक्‍स बसें चलाई जाती है।

इंदौर की सैर का सबसे अच्‍छा समय

इंदौर की सैर का सबसे अच्‍छा समय सर्दियों के दौरान होता है, सर्दियों में यहां वातावरण अच्‍छा और सुखद होता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.