समृद्ध इतिहास से सजे हैं तमिलनाडु के यह रहस्‍यमयी मंदिर

0

प्रकृति की गोद में ऐसे कई अद्भुत स्‍थान हैं जिन्‍हें देखकर मनुष्‍य मंत्रमुग्‍ध हो जाता है। पृथ्‍वी पर अनेक रहस्‍यमयी स्‍थल भी मौजूद हैं और आज हम आपको तमिलनाडु के कुछ रहस्‍यमयी स्‍थलों के बारे में बताने जा रहे हैं। इन्‍हें देखकर आपको आश्‍चर्य होगा कि ऐसी कोई जगह आज भी मौजूद है। उत्‍कृष्‍ट वास्‍तुकला, समृद्ध इतिहास से सजी तमिलनाडु के ये जगहें किसी को भी आकर्षित कर सकती हैं-

कार्तिकेय मुरुगा का सिक्क्कल सिंगारवेलावर मंदिर

सिक्क्कल सिंगारवेलावर मंदिर में स्थापित मूर्ति से पसीना आता है। इस मंदिर में हर साल अक्टूबर से नवंबर के मध्य में एक त्योहार मनाता है, जिसमें भगवान सुब्रमण्य की पत्थर की मूर्ति को पसीना आता है। यह त्योहार राक्षस सुरापदमन पर भगवान सुब्रमण्य की जीत के उत्सव का प्रतीक है और राक्षस को मारने के लिए उत्सुकता से इंतजार करते हुए भगवान सुब्रमण्य के क्रोध का प्रतीक मूर्ति का पसीना है। त्योहार के अंत में पसीना कम हो जाता है। इस जल को भक्तों और दर्शनार्थियों द्वारा बहुत पवित्र माना जाता है, इसलिए पसीने का पानी सौभाग्य और समृद्धि की निशानी के रूप में उन पर छिड़का जाता है।

तंजावुर मंदिर

कला और वास्तुकला से समृद्ध तंजावुर शहर में प्रसिद्ध तंजावुर मंदिर स्थित है एवं इसे ब्रह्देशेश्वर मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। राजा चोल-I द्वारा 1010 ईस्वी में निर्मित यह हिंदू मंदिर भगवान शिव की हिंदू पौराणिक आकृति को समर्पित है। यूनेस्को के विश्व धरोहर स्थल के रूप में घोषित इस मंदिर को प्राचीन चोल वंश के सबसे उल्लेखनीय स्मारकों में से एक माना जाता है। मंदिर की दीवारें पौराणिक आकृतियों, कहानियों और किंवदंतियों की विरासत से सजी हैं। इसकी दीवारों को जटिल नक्काशी और मूर्तियों से सजाया गया है। मंदिर की दीवारें उस समय के राजा फ्रांस रॉबर्ट और एक चीनी व्यक्ति से मिलती-जुलती मानव आकृतियों की नक्काशी हैं लेकिन इनकी पहचान अभी तक नहीं की जा सकी है। इतिहासकारों के अनुसार, दुनिया 1500 ईस्‍वीं तक जुड़ी नहीं थी। वास्तव में, भारतीय धरती पर पैर रखने वाला पहला व्‍यक्‍ति वास्को डी गामा था, जो इस मंदिर के निर्माण के लगभग 500 साल बाद आया था। क्या इससे पता चलता है कि तत्कालीन भारतीय राजा चोल- ने पहले ही अन्य देशों के साथ अंतर्राष्ट्रीय संबंध स्थापित कर लिए थे? यदि हां, तो उस समय परिवहन और संचार के साधन क्या थे?

नचियार कोइल –

देश के सबसे रहस्यमय मंदिरों में से एक मंदिर तमिलनाडु में कुंभकोणम में स्थित है जिसका नाम नचियार कोइल – काल गरुड़ मंदिर है। इस मंदिर में हिंदू देवता भगवान विष्णु के चील पर्वत की प्रसिद्ध पत्थर की मूर्ति है। हर साल गर्मियों के महीनों में मंदिर में एक विस्तृत जुलूस निकलता है एवं इस जुलूस में भगवान की प्रतिमा भी निकाली जाती है। किवदंती है कि जैसे ही प्रतिमा मंदिर से बाहर जाती है, प्रतिमा का वजन तेजी से बढ़ने लगता है। इस प्रकार मूर्ति को ले जाने वालों की संख्या भी अंततः 4 से 8 लोगों से बढ़कर 16 से 32 हो जाती है। इसी प्रकार, जब भगवान विष्णु की मूर्ति को वापस मंदिर में लाया जाता है तो मूर्ति का वजन कम हो जाता है और इसे ले जाने के लिए आवश्यक लोगों की संख्या भी घट जाती है। मूर्ति के वजन में इस अथाह परिवर्तन ने वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं को भी उलझन में डाल रखा है।

टिप्पणियाँ लिखे

आपका ईमेल प्रकाशित नहीं किया जाएगा।